अल्लाह अल जब्बार है..
271

अल्लाह अल जब्बार है..

बेशक अल्लाह तआला अल जब्बार है.. {वही अल्लाह है जिस के सिवाय कोई पूज्य नहीं,मालिक,बहुत पाक,सभी बुराइयों से पविन्न,शांति अता करने वाला,रक्षक,ग़ालिब,ताक़तवर,महान,पाक है अल्लाह उन चीज़ों से जिन्हें ये उस का साझीदार बनाते हैं“।}[अल हश्रः 23].

”अलजब्बार“...

टूटे हुये को जोड़ने वाला,कैदी की सहायता करने वाला,मुहताज को बेनियाज़ करने वाला,भटकने वालों को सुधारने वाला, गुनहगारों के गुनाहों को क्षमा करने वाला,अज़ाब दिये जाने वालों को आज़ाद करने वाला,और मुहब्बत करने वालों और विनम्रों के दिलों को तसल्ली देने वाला।

”अल जब्बार“...

वह ज़ात जो सब से ऊपर है और उस की नेमतें हर चीज़ से बुलंद हैं।

”अल जब्बार“...

वह ज़ात जिस के सामने हर चीज़ पस्त और झुकी हुयी है,और किसी एक मामले के कारण वह दूसरे मामले से बे खबर नहीं है।

”अल जब्बार“...

स्लतनत,बादशाहत,हुकूमत और महानता एवं बुज़ुर्गी वाला।

”अलजब्बार“...

उस के सामने बड़े बड़े ज़ालिम झुकते हैं और महान लोग माथा टेकते हैं और बादशाह और बड़े बड़े लोग उस के सामने आजज़ी ज़ाहिर करते हैं और उस के सामने बड़े बड़े मुज्रिम और सर्कश टूट जाते हैं।

बेशक वह अल्लाह तआला अल जब्बार है..

”अलजब्बार“ अर्थात वह बुलंद व बाला है अथवा इस का अर्थ ग़ालिब,मेहरबान के भी हैंः अर्थात टूटे हुये दिलों को जोड़ने वाला और कमज़ोर,आजिज़ को तसल्ली देने वाला और जो उस की ओर पनाह ढूँडे उसे पनाह देने वाला है।