नसीम सोस्त

img_alt6

78
  • इस्लाम आनंद और शान्ति
  • यहूद को इस्लाम के सायेतले शाँती और न्याय मिला। जिसके द्वारा वे अन्याय और ज़ुल्म से सुरक्षित रहे। वे कई सदियों से सुख और शाँती में जीवन बिता रहे हैं।


  • मान्वता की प्रसन्नता
  • किसी मन को यह बात अजीब ना लगे की पश्चिमी आधुनिक संस्क्रुति सारी मानव्ता को सुखी रखने में और मानव्य प्रसन्नता उपलब्द कराने में नाकाम हो गई और लोगों को अप्रसन्नता, भ्रम में ले डूबी है, इसलिए की आधुनिक ज्ञान के सारे प्रयास विनाष और बरबादी की ओर ले जाते हैं, और इस प्रकार की स्थिती में आधुनिक ज्ञान को पूर्णता से भरपूर मान्ना, या उस्को मानवता की सेवा का साधन समझना (जैसा की इस्लामी युग में था) बहुत दूर की बात है ।


  • पश्चीमी सभ्यता की गहराई
  • जिस व्यक्ति ने पश्चीमी सभ्यता की गहराई को देखा हो। उसकी सारे विषयों का ज्ञान प्राप्त किया हो। इस सभ्यता को ज्ञानिक और वास्तविक रूप से अच्छी तरह परखा हो। तो वह अन्तरीक आत्मा की शक्ती से इस्लामिक सिद्धांत के सामने समर्पण करता है। ताकि इस सिद्धांत द्वारा अपनी प्यास बुजाये।











 अल्लाह तआला अल वारिस है..