अपनी दिशा निर्ध्ररण करले।

अपनी दिशा निर्ध्ररण करले।

62
निश्चय रुप से संसार उस मानव के लिए मार्ग खोल देता है जिसको यह ज्ञान हो कि वह कहाँ जा रहा है ।





Tags:




Nasser al Qatami