नास्तिकता मुर्ख़ता का एक रुप है

नास्तिकता मुर्ख़ता का एक रुप है

69
नास्तिकता मुर्खता का एक रुप है। क्यों कि जब मै सूर्य मंडल कि ओर देखता हूँ तो मुझे यह लगता है कि पृथ्वी सूर्य से उचित दूरी पर है, और यही दूरी पृथ्वी को इस प्रकार सक्षम बनाया कि वह गर्मी और रोशनी की सही शशी प्राप्त करें। निश्चत रूप से यह कोई संयोगवश नही है।





Tags:




Ibrahim Al Akdar - Quran Downloads