मनुष्य की पहचान उसके चरित्र है

मनुष्य की पहचान  उसके चरित्र है

63
नैतिकता के बिना मनुष्य एक क्रूर है जिसे इस संसार में खुला छोडदिया गया है।





Tags:




Ibrahim al-Dosari