मार्ग अनेक है और ईशवर एक है

मार्ग अनेक है और ईशवर एक है

41
जब आप को ज्ञान ना हो कि आप कहाँ जा रहे है, तो सारे मार्ग आपको उसी ओर ले जयेंगे।





Tags:




रसूलों का इतिहास: हजरत इसा