islamkingdomfaceBook islamkingdomyoutube


(ऐ रसूल) तुम कह दो कि ऐ काफिरों

तुम जिन चीज़ों को पूजते हो, मैं उनको नहीं पूजता

और जिस (ख़ुदा) की मैं इबादत करता हूँ उसकी तुम इबादत नहीं करते

और जिन्हें तुम पूजते हो मैं उनका पूजने वाला नहीं

और जिसकी मैं इबादत करता हूँ उसकी तुम इबादत करने वाले नहीं

तुम्हारे लिए तुम्हारा दीन मेरे लिए मेरा दीन

ऐ रसूल जब ख़ुदा की मदद आ पहँचेगी

और फतेह (मक्का) हो जाएगी और तुम लोगों को देखोगे कि गोल के गोल ख़ुदा के दीन में दाख़िल हो रहे हैं

तो तुम अपने परवरदिगार की तारीफ़ के साथ तसबीह करना और उसी से मग़फेरत की दुआ माँगना वह बेशक बड़ा माफ़ करने वाला है

अबु लहब के हाथ टूट जाएँ और वह ख़ुद सत्यानास हो जाए

(आख़िर) न उसका माल ही उसके हाथ आया और (न) उसने कमाया

वह बहुत भड़कती हुई आग में दाख़िल होगा

और उसकी जोरू भी जो सर पर ईंधन उठाए फिरती है

और उसके गले में बटी हुई रस्सी बँधी है