islamkingdomfaceBook islamkingdomyoutube


और जो ज़कात (अदा) किया करते हैं

और जो (अपनी) शर्मगाहों को (हराम से) बचाते हैं

मगर अपनी बीबियों से या अपनी ज़र ख़रीद लौनडियों से कि उन पर हरगिज़ इल्ज़ाम नहीं हो सकता

पस जो शख्स उसके सिवा किसी और तरीके से शहवत परस्ती की तमन्ना करे तो ऐसे ही लोग हद से बढ़ जाने वाले हैं

और जो अपनी अमानतों और अपने एहद का लिहाज़ रखते हैं

और जो अपनी नमाज़ों की पाबन्दी करते हैं

(आदमी की औलाद में) यही लोग सच्चे वारिस है

जो बेहश्त बरी का हिस्सा लेंगे (और) यही लोग इसमें हमेशा (जिन्दा) रहेंगे

और हमने आदमी को गीली मिट्टी के जौहर से पैदा किया

फिर हमने उसको एक महफूज़ जगह (औरत के रहम में) नुत्फ़ा बना कर रखा

फिर इसके बाद यक़ीनन तुम सब लोगों को (एक न एक दिन) मरना है

इसके बाद कयामत के दिन तुम सब के सब कब्रों से उठाए जाओगे

और हम ही ने तुम्हारे ऊपर तह ब तह आसमान बनाए और हम मख़लूक़ात से बेखबर नही है

अलबत्ता वह ईमान लाने वाले रस्तगार हुए

जो अपनी नमाज़ों में (खुदा के सामने) गिड़गिड़ाते हैं

और जो बेहूदा बातों से मुँह फेरे रहते हैं

फिर हम ही ने नुतफ़े को जमा हुआ ख़ून बनाया फिर हम ही ने मुनजमिद खून को गोश्त का लोथड़ा बनाया हम ही ने लोथडे क़ी हड्डियाँ बनायीं फिर हम ही ने हड्डियों पर गोश्त चढ़ाया फिर हम ही ने उसको (रुह डालकर) एक दूसरी सूरत में पैदा किया तो (सुबहान अल्लाह) ख़ुदा बा बरकत है जो सब बनाने वालो से बेहतर है