islamkingdomfaceBook islamkingdomyoutube


उनकी ऑंखें झुकी हुई होंगी रूसवाई उन पर छाई होगी और (दुनिया में) ये लोग सजदे के लिए बुलाए जाते और हटटे कटटे तन्दरूस्त थे

तो मुझे उस कलाम के झुठलाने वाले से समझ लेने दो हम उनको आहिस्ता आहिस्ता इस तरह पकड़ लेंगे कि उनको ख़बर भी न होगी

और मैं उनको मोहलत दिये जाता हूँ बेशक मेरी तदबीर मज़बूत है

(ऐ रसूल) क्या तुम उनसे (तबलीग़े रिसालत का) कुछ सिला माँगते हो कि उन पर तावान का बोझ पड़ रहा है

या उनके इस ग़ैब (की ख़बर) है कि ये लोग लिख लिया करते हैं

तो तुम अपने परवरदिगार के हुक्म के इन्तेज़ार में सब्र करो और मछली (का निवाला होने) वाले (यूनुस) के ऐसे न हो जाओ कि जब वह ग़ुस्से में भरे हुए थे और अपने परवरदिगार को पुकारा

अगर तुम्हारे परवरदिगार की मेहरबानी उनकी यावरी न करती तो चटियल मैदान में डाल दिए जाते और उनका बुरा हाल होता

तो उनके परवरदिगार ने उनको बरगुज़ीदा करके नेकोकारों से बना दिया

और कुफ्फ़ार जब क़ुरान को सुनते हैं तो मालूम होता है कि ये लोग तुम्हें घूर घूर कर (राह रास्त से) ज़रूर फिसला देंगे

और कहते हैं कि ये तो सिड़ी हैं और ये (क़ुरान) तो सारे जहाँन की नसीहत है

सच मुच होने वाली (क़यामत)

और सच मुच होने वाली क्या चीज़ है

और तुम्हें क्या मालूम कि वह सच मुच होने वाली क्या है

(वही) खड़ खड़ाने वाली (जिस) को आद व समूद ने झुठलाया

ग़रज़ समूद तो चिंघाड़ से हलाक कर दिए गए

रहे आद तो वह बहुत शदीद तेज़ ऑंधी से हलाक कर दिए गए

ख़ुदा ने उसे सात रात और आठ दिन लगाकर उन पर चलाया तो लोगों को इस तरह ढहे (मुर्दे) पड़े देखता कि गोया वह खजूरों के खोखले तने हैं

तू क्या इनमें से किसी को भी बचा खुचा देखता है